Welcome to YoAlfaaz, the best platform for writers to Share their write-ups. Get maximum exposure, interact with top writers, gain and share knowledge and create your online presence as a writer. You can start by Registering here. For any query visist F.A.Q.

माँ की गोद

+4 votes
36 views
shared Mar 16 in Poem by anugunja
जाने कैसे आ जाती नींद,माँ की गोद में
इस दुनिया से हो जाती बेखबर,माँ की गोद में...
न कोई चिंता सताती और न ही कोई दुख दिखता
एक ममतामयी सुकून के सिवा कुछ नही एहसास होता.....
हमारे बालो पर फेरते माँ की अंगुली की हरकत
मानो देती हमें दुआ कि रोज होती रहे हमारी बरकत....
दिनभर की थकन पल में हो जाती हमसे कोसो दूर
जब माँ की थपकी हमेशा अंधेरे को मिटाकर लाती हमारी भोर।अनुगुंजा
commented Mar 17 by Ritika gusaiwal
awesome............. :):)
commented Mar 17 by Priya Batra
beautiful....
commented Mar 18 by anugunja
Thank you so much..हमें ये कभी नहीं भूलना चाहिए कि माँ अनमोल होती है इसलिए उसे हमेशा प्यार और सम्मान देना चाहिए।
commented Mar 23 by gurjyot_singh
beautifully written...

Related posts

+2 votes
0 replies 55 views
+5 votes
0 replies 30 views
+5 votes
0 replies 23 views
+3 votes
0 replies 33 views
+5 votes
0 replies 37 views
+4 votes
0 replies 27 views
Connect with us:
...