Welcome to YoAlfaaz, the best platform for writers to Share their write-ups. Get maximum exposure, interact with top writers, gain and share knowledge and create your online presence as a writer. You can start by Registering here. For any query visist F.A.Q.

किस्मत को कोसने को तो पूरी ज़िन्दगी पडी है

+2 votes
15 views
shared Apr 20 in Ghazal by Anil Sharma
किस्मत को कोसने को तो पूरी ज़िन्दगी पडी है
सब्र-औ-हिम्मत रख़ के सामने मंज़िल ख़डी है

करीब आ रही है वो कदम-दर-कदम तेरे
भले तुझे लगे के अभी दूर बडी है

कुछ तो कमी होगी तेरी कौशिशों में, ए दोस्त
के यूं नही मंज़िल भी ज़िद्ध पे अडी है

पा ही जाओगे, एक न एक दिन उसे
मैंने देखा, इस कदर तुम्हारी उस पे नज़र गडी है

तोडेगा उसके गुरूर को तू बा-बेरहम
अनिल' ज़िद्ध आज तेरी भी ज़िद्ध पे ही अडी है

Related posts

+3 votes
0 replies 28 views
+5 votes
0 replies 14 views
Connect with us:
...