Welcome to YoAlfaaz, it's your personal online diary and a writer’s community to Share Your Feelings in words. Write, learn, socialise, get feedback, get exposure and improve reputation by being active on YoAlfaaz.  You can start by Registering here. For any query visist F.A.Q.
Competition for Best Short Story of the month is going on, if you are interested then check the guidelines.
+3 votes
27 views
shared in Ghazal by
इश्क़ में इश्क़ से इश्क़ लिख रहा हूँ
ये ख़त अज़नबी के पतें लिख रहा हूँ

तेरी अनकही बातें नजरों की वो मुलाकातें
ख़ुद की लफ़्ज़ों में वो तेरी ख़ामोशी लिख रहा हूँ

तेरा छत पर वो  आना जाना खिड़कियों से देख शर्माना
ख़ुद की नज़र से तेरी शरारतें लिख रहा हूँ

छुप-छुप कर तेरा देखना देख अनदेखा कर मुस्कुराना
ख़ुद की होठों से तेरी वो मुस्कराहट लिख रहा हूँ

उँगलियों से जमीं पे लिखना लिखकर फिर मिटकाना
तेरी उन अधुरें शब्दों की कहानी लिख रहा हूँ

इश्क़ में इश्क़ से इश्क़ लिख रहा हूँ
ये ख़त अज़नबी के पतें लिख रहा हूँ ।
commented by
ho....sooo sweettt
:):):)
just amazing....
impressive
commented by
Thanks with love...
commented by
amazing write-up...

Related posts

+4 votes
0 replies 27 views
+8 votes
1 reply 30 views
+4 votes
0 replies 19 views
+3 votes
0 replies 41 views
+4 votes
0 replies 83 views
+5 votes
0 replies 20 views
Connect with us:
...