Welcome to YoAlfaaz, it's your personal online diary and a writer’s community to Share Your Feelings in words. Write, learn, socialise, get feedback, get exposure and improve reputation by being active on YoAlfaaz.  You can start by Registering here. For any query visist F.A.Q.
Competition for Best Short Story of the month is going on, if you are interested then check the guidelines.
+5 votes
61 views
shared in Poem by
जाने कैसे आ जाती नींद,माँ की गोद में
इस दुनिया से हो जाती बेखबर,माँ की गोद में...
न कोई चिंता सताती और न ही कोई दुख दिखता
एक ममतामयी सुकून के सिवा कुछ नही एहसास होता.....
हमारे बालो पर फेरते माँ की अंगुली की हरकत
मानो देती हमें दुआ कि रोज होती रहे हमारी बरकत....
दिनभर की थकन पल में हो जाती हमसे कोसो दूर
जब माँ की थपकी हमेशा अंधेरे को मिटाकर लाती हमारी भोर।अनुगुंजा
commented by
awesome............. :):)
commented by
beautiful....
commented by
Thank you so much..हमें ये कभी नहीं भूलना चाहिए कि माँ अनमोल होती है इसलिए उसे हमेशा प्यार और सम्मान देना चाहिए।
commented by
beautifully written...

Related posts

+3 votes
0 replies 61 views
+6 votes
0 replies 47 views
+6 votes
0 replies 30 views
+4 votes
0 replies 38 views
+6 votes
0 replies 44 views
Connect with us:
...