Welcome to YoAlfaaz, it's your personal online diary and a writer’s community to Share Your Feelings in words. Write, learn, socialise, get feedback, get exposure and improve reputation by being active on YoAlfaaz.  You can start by Registering here. For any query visist F.A.Q.
Competition for Best Short Story of the month is going on, if you are interested then check the guidelines.
+4 votes
18 views
shared in Poem by
पेंडुलम।।

*********
कितनी सुंदर रातों और चमकीले दिनों को पार करके,
ज़िन्दगी मेरे 'आज' में रुक गयी है।
एक झूलता 'पेंडुलम' !
बस एक सिरे से दूसरे सिरे से टकराती ,स्थिर ज़िन्दगी।
शायद रुक जाना चाहती है,
नही चाहती आगे का सफर।

बस यहीं रुकना है,
शायद फिर से हो पिंछला सफर।
फिर से पीछे ,
 वही सुंदर दिन और चमकीली रातें।
मखमली घास सी ज़िन्दगी।
बहुत खूबसूरत होता है ये 'प्रारंभ'।
और बीच से आगे निकल जाना
और फिर से यहीं से रुक के,
'बीते' हुए को देखना।
जो बीएस बीत चुका है घडी और कैलेंडर में।
उसे देखना,सोचना और फिर से पाने की आस,
क्योंकि ये वर्तमान; भूत और भविष्य का छलावा है ।
आ यही से वापिस लौटने का बहाना करे।
बचपन को फिर से जीने का सहारा करे।
पेंडुलम तुम रुक जाओ।।
~Kv~

2:22pm
20 may
commented by
Beautiful Poem :) :)

Related posts

+2 votes
0 replies 14 views
+2 votes
0 replies 13 views
+1 vote
0 replies 7 views
+9 votes
0 replies 50 views
+3 votes
0 replies 25 views
+3 votes
0 replies 11 views
shared Dec 19, 2016 in Poem by Nick Goth
+5 votes
0 replies 33 views
+5 votes
0 replies 25 views
shared Sep 1, 2016 in Poem by TheQuill
+3 votes
0 replies 16 views
+8 votes
0 replies 89 views
Connect with us:
...