Welcome to YoAlfaaz, it's your personal online diary and a writer’s community to Share Your Feelings in words. Write, learn, socialise, get feedback, get exposure and improve reputation by being active on YoAlfaaz.  You can start by Registering here. For any query visist F.A.Q.
+3 votes
75 views
shared in Ghazal by
पंजाबी:

घुट घुट बिरहों दे मैं भरके - साह बहिश्ती चले जाना;
लाके सिर ते कबरां दी मिटटी - शगन हंजा दा है मनाना;

कबरां तीक बच्या है जिन्ना - वी सफ़र मेरी ज़िन्दगी दा;
द्वार तेरे दी करके परीकरमा - दम तेरे ही दर ते मुकाना;

टीस दित्ती है जिन्नी वी गहरी - बंद रहेगी मेरे दिल विच;
दफ़न है जो दिल दी कबर विच - नाल मेरे बहिश्ती जाना;

अजब किस्मत इशके दी लिखती - रात इक न वसल दी मिलदी;
हर जनम मिलदा हीर नू रोना - ते रांझे नु कण पद्वाना;

मुमकिन है 'मजबूर' तो बाद'च - भावे दिल तेरा कोई दूजा;
डउबया है जो अज्ज नू सूरज - कल नवां परत है आना;

हिंदी

घुट घुट बिरहे के मैंने भरके - सांस जन्नत को चले जाना;
लगा के सर पे कबरों की मिटटी - शगन आंसू का है मनाना;

कबरों तक बचा है जितना भी - ये सफ़र मेरी ज़िन्दगी का;
द्वार तेरे की करके परिक्रमा - दम तेरे ही दर पे बुझाना;

दर्द दी मुझे जितनी भी गहरी - बंद रहेगी मेरे इस दिल में;
दफ़न है जो दिल की कबर में - साथ मेरे जन्नत को जाना;

अजब किस्मत इश्क की लिखते - रात इक ना वस्ल की मिलती;
हर जनम मिलता हीर को रोना - और रांझे को कान छिद्वाना;

मुमकिन है 'मजबूर' के बाद भी - भाये दिल तेरा कोई दूजा;
आज जो डूबा है सूरज फलक से - कल नया मुड़कर है आना;

गौरव मजबूर
commented by
loved it brother... :)
commented by
thank u........

Related posts

+3 votes
0 replies 50 views
+4 votes
0 replies 53 views
+6 votes
0 replies 139 views
+6 votes
0 replies 40 views
Connect with us:
...