Welcome to YoAlfaaz, it's your personal online diary and a writer’s community to Share Your Feelings in words. Write, learn, socialise, get feedback, get exposure and improve reputation by being active on YoAlfaaz.  You can start by Registering here. For any query visist F.A.Q.
+2 votes
15 views
shared ago in Poem by
तेरेे और मेरे मोहब्‍बत करने में फर्क बहोत है,

तेरा मुझे छोडने में, और

मेरा तुझे ना पाने में फर्क बहोत है......

माना क‍ि इजहार क‍िया तुमने और बताया मुझे,

पर छोड कर जाना और ना बताने में फर्क बहोत है.....

तेरे और मेरे मोहब्‍बत करने में फर्क बहोत है............

उन सावन के सुहाने द‍िनों में, तुम्‍हारी सहेलियों के मजाक में,

और मेरे पतझड क‍ि बयार में, मेरे दोस्‍तो के सम्‍भालने में फर्क बहोत है

तेरे और मेरे मोहब्‍बत करने में फर्क बहोत है......

लगातार...........

Related posts

+7 votes
0 replies 30 views
+4 votes
0 replies 21 views
shared Dec 9, 2017 in Poem by Kabir
+6 votes
0 replies 43 views
+4 votes
0 replies 25 views
shared Nov 21, 2017 in Poem by Akash
+3 votes
0 replies 14 views
Connect with us:
...